Location

606A, Union Heights, Beside Rahul Raj Mall, Vesu, Surat – 395007, Gujarat, India.
Buy Now

Blog

Agriculture
Mulch - Growit

मल्च क्या है और मल्चिंग लाभ

छोटी उम्र में ही विभिन्न जान लेवा बीमारियों से ग्रस्त होने के बढ़ रहे खतरे से जूझने के लिए हर आयु और वर्ग के मनुष्य के लिए यह अत्यावश्यक है कि वह प्रतिदिन गुणवत्ता और पोषण से परिपूर्ण भोजन ग्रहण करे। यह तभी हो सकता है जब उस अन्न को, जिसे वह ग्रहण करता है, मल्च और मल्चिंग जैसी स्वास्थ्यप्रद कृषि-संबंधी शैलियों का उपयोग करके उगाया जाए।
इनके अनेक लाभों को ध्यान में रखते हुए पूरी दुनिया में कृषि समुदाय से जुड़े असंख्य लोग मल्च और मल्चिंग जैसी स्वास्थ्यप्रद कृषि प्रक्रियाओं को अपना रहे हैं अब एक पूर्ण रूप से स्थापित तथ्य है। भारत में जैविक रूप से उगाई गई फसलों की बढ़ती मांग और फसल-विविधीकरण और प्रगतिशील खेती के प्रति भारतीय किसानों के झुकाव ने उनमें से अधिकांश को मल्च और मल्चिंग जैसी फायदेमंद कृषि पद्धतियां अपनाने के लिए प्रेरित किया है।
उत्पाद और तकनीक के लाभों को देखते हुए और भी बहुत से किसान मल्च और मल्चिंग को अपनाने की कगार पर हैं, जबकि अधिकाँश किसान  जो अभी भी पारंपरिक कृषि पद्धतियों का अनुसरण कर रहे हैं, को मल्चिंग और मल्च के फायदे से अवगत करवाया जा रहा है।
लेकिन मल्च और मल्चिंग केवल फसल की खेती तक ही सीमित नहीं है। मल्चिंग बागबानी, जिसमें फलों की खेती और सजावटी बागवानी की कला और वाणिज्यिक खेती के लगभग हर पहलू शामिल हैं, के लिए भी फायदेमंद हैं।
जहाँ तक मल्च के फायदे का सवाल है, इस कृषि प्रक्रिया के कई लाभ हैं। मल्चिंग द्वारा भूमि के एक विशाल क्षेत्र को भी कवर किया जा सकता है या फिर इससे अलग-अलग प्रत्येक पौधे पर उस की जरूरतों और किसान के बजट के आधार पर भी लगाया जा सकता है।

मल्च क्या है? | What is Mulch

एक बागवान और कृषि विज्ञानी के लिए यह अत्यावश्यक है कि वे मल्च और मल्चिंग का प्रयोग करने से पहले इसके हर पहलु से अच्छी तरह से परिचित हो जाएँ। सूर्य के प्रकाश और उर्वरक के संपर्क में एकरूपता में सामान्यीकृत विश्वास के दिन अब बीत चुके हैं। वर्तमान एक किसान द्वारा खेती की जा रही पौधे या फसल की विशेष जरूरतों के आधार पर विनिर्देशों के पालन का युग है।
मनुष्यों की तरह हर पौधे की अपनी विशेष पोषण संबंधी आवश्यकताएँ होती हैं। मल्च के प्रयोग के द्वारा इन पौधों की विशेष पोषण संबंधी आवश्यकताओं का आसानी सी ख़याल रखा जा सकता है। इसके बिना पौधों का विशेष रूप से ख़याल रखना किसानों और बागबानों के लिए मानसिक और आर्थिक तनाव का कारण बन सकता है।
मल्च उस मिट्टी पर लगाया जाने वाला एक आवरण है जिसके ऊपर या तो पहले से ही खेती की जा रही होती है या फिर जिसे खेती के लिए तैयार करने की आवश्यकता होती है। मल्च इस मिटटी में पोषक तत्वों और नमी के पर्याप्त स्तर को बनाए रखने में मदद करती है। मल्च अक्सर जैविक प्रवृति की होती है। एक उत्पादक की खेती की जरूरतों के अनुसार, यह या तो अस्थायी या फिर स्थायी भी हो सकती है।
घास के टुकड़े, पत्ते, पेड़ों की छाल, रसोई का कचरा, खाद, आदि जैविक मल्च की श्रेणी में आते हैं। मल्च रबर और प्लास्टिक से भी बनाई जा सकती है। मल्च के उपयोग का उद्देश्य मिट्टी को उपजाऊ, स्वस्थ, पोषक तत्वों से भरपूर और फसल की खेती के लिए अत्यधिक उत्पादक बनाना है।

मल्च के फायदे: | Mulching Benefits

  1. मल्च मिट्टी को उपजाऊ और स्वस्थ बनाती है
  2. जैविक मल्च मिट्टी को आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करती है
  3. मल्च फसल की खेती के लिए मिट्टी को अत्यधिक उत्पादक बनाती है
  4. मल्च फसल को हानिकारक खरपतवारों से बचाती है
  5. मल्च खेती परिसर के सौंदर्य में चार चाँद लगाती है
  6. मल्च पौधों के सूर्य के प्रकाश से संपर्क को नियंत्रित करती है
  7. मल्च मिट्टी में नमी की सही मात्रा सुनिश्चित करने में सहायता करती है
  8. मल्च पौधों के आसपास के क्षेत्र को इन्सुलेट करके सभी प्रकार के मौसम में तापमान को नियंत्रित करती है

मल्च कवर मिट्टी के कटाव को रोकने में भी मदद करता है, और इस प्रकार यह, पौधे और पर्यावरण दोनों के लिए फायदेमंद है। कृषि समुदाय की विभिन्न कृषि आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए मल्च कवर सभी प्रकार के आकार और रंगों में उपलब्ध हैं। मिट्टी के प्रकार और खेती की जरूरतों के आधार पर मल्च को जमीन के एक विशाल क्षेत्र में या व्यक्तिगत रूप से प्रत्येक झाड़ी पर भी लगाया जा सकता है।
रंगीन मल्च के डाई खेती और पर्यावरण के अनुकूल होते हैं और उनके फायदे सादे या बिना रंग वाली मल्च जैसे ही होते हैं। मल्च के फायदे यह भी हैं की इसके अधिकांश प्रकार, विशेष रूप से जैविक मल्च, समय, अपक्षय और उपयोग के साथ विघटित हो जाते हैं।
मल्च के विघटित होने पर अतिरिक्त आवरण के साथ इसे फिर से भरने की आवश्यकता होती है, लेकिन कृषि विज्ञान में प्रगति ने ऐसे जैविक मल्च के आवरणों का विकास किया है जो पारंपरिक मल्च की तुलना में लंबे समय तक चलते हैं। किंतु मल्च को बिना सोचे समझे किसी भी पौधे पर नहीं लगाया जा सकता है। हर पौधे की मल्चिंग की जरूरत दूसरे पौधे से भिन्न होती है।
इसलिए, यह ज़रूरी है कि बागबान और किसान अपनी उपज की विशेष पोषण आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए आवश्यक मल्च कवर का चयन करें। इसलिए, यह आवश्यक है कि वे विभिन्न प्रकार के मल्च कवर और उनके अनुप्रयोगों से अच्छी तरह परिचित हों।
जबकि पत्तियों जैसी प्राकृतिक मल्च को लगभग कहीं भी लगाया जा सकता है, विभिन्न पौधों की मल्चिंग आवश्यकताएँ उनकी पोषण संबंधी आवश्यकताओं पर निर्भर करती हैं। किसानों को इसके बारे में पता होना चाहिए और उन्हें वही मल्चिंग समाधान प्रयोग में लाने चाहिए जो उनकी फसल के लिए, जिसकी वे खेती कर रहे हैं, सबसे उपयुक्त हो। केवल खुली जगहों में ही नहीं, गमले में लगे पौधों को अच्छी तरह विकसित करने के लिए भी मल्चिंग सहायक सिद्ध हो सकती है।
मल्च कवर की सीमा किसानों की अपनी इच्छा पर निर्भर करती है। मल्चिंग के फायदे यह भी हैं कि मल्च कवर को या तो पूरे खेती परिसर में या केवल कुछ विशिष्ट क्षेत्रों में भी लगाया जा सकता है। उच्च गुणवत्ता वाली उपज सुनिश्चित करने के लिए व्यावहारिक रूप से इसे पूरे वर्ष प्रयोग में लाया जा सकता है।

मल्चिंग से संबंधित कुछ तथ्य:

मल्चिंग की संकल्पना भारत के लिए बिलकुल भी नई नहीं है। मल्चिंग भारतीय कृषि में एक सदियों पुरानी प्रथा है। अन्य देशों की तर्ज़ पर मल्चिंग का विकास भारत में अधिक वैज्ञानिक रूप से हाल ही में हुआ है। यद्यपि इसके अनुप्रयोग व्यापक रूप से व्यावसायिक खेती पर लागू होते हैं, व्यक्तिगत उपभोग के लिए बागबानी में लिप्त लोग भी फसल, मिट्टी और पर्यावरण के लिए इसके असंख्य लाभों को देखते हुए मल्चिंग का प्रयोग कर रहे हैं।
मल्चिंग के फायदे यह भी हैं की यह उपज के लिए खाद और पानी के सरल अनुप्रयोग की तुलना में आर्थिक और पर्यावरणीय रूप से अधिक व्यवहार्य है और पौधों को ठीक से पोषण देने के अलावा, यह प्रक्रिया उनके विकास के लिए उपयुक्त वातावरण सुनिश्चित करने में सहायक सिद्ध होती है।
संरक्षित खेती की विविध समस्याओं का समाधान पाने के लिए और फसल की उत्पादक क्षमता बढ़ाने के तरीकों के बारे मे जानने के लिए आप हमारी ग्रोइट ऐप को आज ही डाउनलोड कीजिए और अपनी कृषि संबंधी समस्याओं का समाधान पाईये।   

Leave a Comment

×